• Hindi Poetry | कविताएँ

    Humare Ram (हमारे राम)

    Painting Credit & Courtesy: Sukhpal Grewal
    श्री राम कहो, रामचंद्र कहो
    कोई भजे सियाराम है
    कोई कहे पुरुषोत्तम उनको
    मानो तो स्वयं नारायण है 
    
    
    कुछ तो बात होगी ही न उनमें
    की राम भावना युगों से प्रचलित है 
    सहस्रों हैं वर्णन उनके, सैंकड़ो हैं गाथाएँ
    जो राम हैं हमारे वह तो हर कण में रमित हैं
    
    
    आज सज रहा शहर मोहल्ला
    सजी सजी हर गली भी है
    लहरा रही हनुमान पताका
    श्री राम लहर जो चली है
    
    जलेंगे आज दीप घर घर में
    पौष में मन रही दिवाली है
    प्रस्थापित होंगे राम लल्ला अवध में
    हर मन प्रफुल्लित और आभारी है
    
    पुनः निर्मित हो रहा है जो
    केवल मंदिर नहीं स्वाभिमान है
    यह किसी धर्म संप्रदाय की विजय नहीं
    धरोहर हैं हम जिसकी उस सभ्यता का उत्थान है
    
    हो सम्मान जहाँ हर नर का
    सम्मानित जहाँ हर नारी है
    प्रेरित हो जो राम राज्य से
    उस भारत की रचना ज़िम्मेदारी है
    
    राम आस्था राम विश्वास
    राम जीवन की सीख हैं
    राम रामत्व रम्य रमणीय
    राम इस संस्कृति के प्रतीक हैं
    
    कोई कहे पुरुषोत्तम उनको
    मानो तो स्वयं नारायण है 
    श्री राम कहो, रामचंद्र कहो
    कोई भजे सियाराम है
    
    
    
    
    
    
    
    
    
    
    
  • Hindi Poetry | कविताएँ

    जो कह न  सका

    कहने को तो बहुत कुछ है
    लेकिन आज भी कहा नहीं जाता
    
    ऐसा होता तो है मगर होता क्यों है
    के दिल में आया ख़याल अंजाम नहीं पाता
    
    काश के कह दिया होता जो कहना था
    फिर वक़्त पे मैं ये इल्ज़ाम न लगाता
    
    आपकी इज़्ज़त करना जिसे सोचा था
    उस एहतिराम को बीच का फ़ासला न बनाता
    
    अब उम्मीद यही करता हूँ हर बार ये
    के सुन ही लेते थे आप जो मैं ज़ुबान पे न लाता
    
    यक़ीनन पहुँच रहा होगा मेरा दर्द  भी ये
    वरना इतना मुझ से अकेले सँभाला नहीं जाता
    
    बस गयें हैं आप शायद अब कहीं मुझ में ही
    आप से जुदा चेहरा मेरा आईना नहीं बतलाता
    
    हर रोज़ रूबरू होता हूँ मैं यूँ अब आप से
    इसीलिए मैं इस बात का शोध नहीं मनाता
    
    कहने को तो बहुत कुछ है
    लेकिन आज भी कहा नहीं जाता

  • English Poetry

    A Beautiful Friendship

    Wonder if things would've changed
    Or would they have remained the same
    Would we have grown into wise old men by now
    Or remained boys taking things as they came
    
    Life would have kept us together I'd reckon
    Circumstances no doubt would've made our journeys part
    It would have remained a beautiful friendship
    If only a premature end did'nt beckon
    
    Had life not made other plans
    You'd have turned 50 today
    Imagine all that we'd have done
    The boys in us would've had their way
    
    So in your memory we shall pour out one
    Sing songs all night from an infinite playlist
    Do things the only way we would have done
    Have one more and one more till morning come
  • Hindi Poetry | कविताएँ

    Shunya (शून्य)

    शून्य से जन्मा हूँ मैं
    और शून्य में मिल जाऊँगा
    इस मेल के अंतराल में
    जीवन काल मैं बिताऊँगा
    
    अल्प है किंतु ये
    पूर्ण ये विराम नहीं
    आज के गगन का
    अस्त सूर्य ये हुआ नहीं
    
    मात्र कुछ शब्द कह
    वाणी ये न थम पाएगी
    पंक्तियाँ इस वाक्य की
    महाकाव्य ही रच जायेंगी
    
    स्वयं है लिखि जा रही
    हस्त की ये रेखा नहीं
    सीख ली है हर उस बाण से
    जिसने लक्ष्य भेदा नहीं
    
    कर्म मैं अपना करूँ
    आगे बढ़ता जाऊँगा
    भाग्य की धरती से मैं
    फल नहीं उपजाऊँगा
    
    पाया जो पितृ-तात् से
    दंभ उसका किंचित् भी नहीं
    आशंका मात्र इतनी है
    वृद्धि उसमें कर पाऊँ कि नहीं
    
    नयनों को विश्वास है
    स्वप्न सच हो जाएँगे
    कष्ट करने वालों को
    कृष्ण मिल ही जाएँगे
    
    पथ पे चल पड़ा हूँ जिस
    आपदा का अब भय नहीं
    न मिले या मिलतीं रहें
    उपलब्धियाँ मेरा अस्तित्व नहीं
    
    शून्य हूँ मैं
    और शून्य में मिल जाऊँगा
    अंत की अग्नि में जल
    कल राख़ मैं बन जाऊँगा
    
  • English Poetry

    The Average Guy

    I am your average guy
    
    The kind that hold the door for you
    Instead of getting ahead on the sly
    
    I am your average guy
    
    The type you call your friend
    Not the hottie who you wanna try
    
    I am your average guy
    
    The one who sticks around
    Never leaves you hanging dry
    
    I am your average guy 
    
    Whose word you can rely on
    Not someone who’s default is a lie
    
    I am your average guy 
    
    Happy always to lose to you
    Not hide behind if, but and why
    
    I am your average guy
    
    Your very last first kiss
    The love you just couldn’t deny
    
    Yes I am just an average guy 
  • English Poetry

    The Wiseman’s Lament

    Fear not the fools
    For they have no pretence
    Fear the questions they ask
    For they may expose your ignorance
    
    Beware of the ignorant though
    They certainly are a dangerous lot
    Stubborn enough to keep facts at bay
    Smart enough to connive and plot
    
    Wisdom alone isn’t enough for the wise
    The wise must put it to opportune use
    For the fool doesn’t care much for knowledge
    The ignorant love status quo, tis change they refuse
    
    The fools have no concept of it
    The ignorant don’t find wasting it a crime
    Quest for knowledge is a burden for the wise
    Wisdom isn’t attained overnight, it accrues over time
    
    The world is fair and uniformly unkind to all
    No matter you are the fool, ignorant or wise
    The wise in their knowledge of it suffer more
    After all, “Ignorance is bliss in fool’s paradise”
  • English Poetry

    The Mind Shapers

    A tribute to all the potters
    Who shape the human mind
    To those who see each piece of clay
    And believe that it is one of a kind
    
    Their knowledge like deft fingers
    Shaping and moulding the clay
    Expertly spinning the wheel
    Fast at times, at times slowing play
    
    Carefully grinding and dusting
    Allowing the contours to appear
    Baking and glazing every single one
    To make them last many a year
    
    So here’s an expression of gratitude
    Towards all those wonderful artisans
    The teachers who have crafted us all
    Into becoming our best possible versions
  • English Poetry

    Unstoppable

    My nation stands at the precipice 
    A fledgling ready to leave the perch
    Yet a maven helming a new world 
    A beacon of a wise and vibrant past
    
    A billion hopes ready to take wing
    Aspirations waiting to fly high
    A populace with a newfound voice
    Diaspora that has found the spotlight 
    
    You know you can reach where you’re going 
    Once you know where you started from 
    India today is an idea whose time has come 
    Our tryst with our destiny has only just begun
  • Hindi Poetry | कविताएँ

    Us Raat Ki Baat (उस रात की बात)

    उस रात की बात कुछ और ही थी
    
    दिलचस्प क़िस्सों और यादों की होड़ सी थी
    नये पुराने रिश्तों बीच लगी एक दौड़ सी थी
    
    चेहरे जो धुंधला गए थे वो साफ़ खिल गए
    कुछ मलाल भी होंगे जो उस रात धुल गए
    
    बीते सालों का असर कहीं छिपा कहीं ज़ाहिर था
    गहराते रिश्तों के मंज़र का हर शक्स नाज़िर था
    
    इतनी हसीन थी मुलाक़ातें के शाम कम पड़ गई
    या यूँ कह दें की अपना काम बहती जाम कर गई
    
    ख़ुशियों का उठता ग़ुबार बारिश भी दबा न सकी
    लगी जो आग है मिलन की वो कब है रुकी
    
    उस रात की बात कुछ और ही थी
    
    उस रात की बात कुछ और ही थी
  • Hindi Poetry | कविताएँ

    Khayal (ख़याल)

    ख़याल कुछ यूँ आया
    कि बहुत दिन हुए कुछ लिख़ा नहीं
    उसी के हाथ थामे ख़याल एक दूसरा आया
    कि बीते दिनों लिखने लायक कुछ दिखा नहीं
    
    अब ख़यालों का कुछ ऐसा है
    कि एक-दो पे कभी सिलसिला रुका नहीं
    फिर लगा कि इस बात पे ही कुछ कह देतें हैं
    कम होता है कि लिखने बैठें और क़ाफ़िया मिला नहीं
    
    दम भर ले शायरी का जितना भी
    बात ग़ाफ़िल ये मुख़्तसर सी है
    कि शायर तेरी भरी तिजोरी भी
    बिना लफ़्ज़ों के समझो ख़ाली ही है