• English Poetry

    Forever Indebted

    For caressing my curiosity beyond a tome For creating a home away from home For helping me get up after a fall For pushing me to give it my all For encouraging thought and creativity For ignoring acts of teenage proclivity For the angry glare and timely reprimand For simply saying “I understand” For making sure I became the best version of me For I couldn’t have made it this far had you just let me be

  • English Poetry

    Mother

    I walk alone Trying to find a way back home I look for a landmark Yet I keep coming back to the start I am tired and strained The sights and sounds seem unfamiliar The shadows grow longer I am scared and frightened I see a light shining in the distance I open my eyes Yes, I am home A loving touch A hand runs its fingers through my hair It's you mother I am comforted by your tender loving care

  • English Poetry

    A Date with a Memory

    How does one prepare To face impending despair What do you do When you know the blues are going to hit you You see the pages of calendar turn A date with a memory awaits Passing time hasn't yet healed the burns Of a day when you were hit by a cruel twist of fate You try to move on Carefully treading down memory lane Past flashing images of a loved one gone The heart laments, aches and pains The day passes punctuated with awkward silences With the mind and heart attempting conversation What one says the other refuses Each year its the same situation Someday the mind hopes the…

  • English Poetry

    The Perfect Circle

    I pen these lines to say ‘Thank You’ on what my little one says is Friendship DayThere are indeed things to express and today’s as good as any other dayAlways maintained and truly believe that friends are the family one can chooseOur most potent weapons always ready at our behest to convince, corrupt or confuseTo all the friends who befriended me or I ever madeAt work, the university, the neighbourhood or first gradeClose or distant so many of you have had a role to playIn shaping me into the person I am from the proverbial clayTo those who really don’t fit the classical definition of a friendThe ones that are…

  • Hindi Poetry | कविताएँ

    तू है…के नहीं?

    आज एक याद फ़िर ताज़ा हो चली है संग वो अपने सौ बातें और हज़ार एहसास ले चली है तोड़ वक़्त के तैखाने की ज़ंजीरें खुली आँखों में टंग गयी बीते पलों में बसी तस्वीरें सुनाई साफ़ देती है हर बात अफ़सानों का ज़ायका और निखर गया है सालों के साथ दर्द और ख़ुशी का अजब ये मेल है संग हो तुम फिर भी नहीं हो बस यही क़िस्मत का खेल है

  • Hindi Poetry | कविताएँ

    फ़िलहाल

    कुछ दिनों से ऐसा लग रहा है के ज़िंदगी के माइने बदल गए इतना बदला हुआ मेरा अक्स है लगता है जैसे आइने बदल गए अभी तो कारवाँ साथ था ज़िंदगी का जाने किस मोड़ रास्ते जुदा हो गए अब तो साथ है सिर्फ़ अपने साये का जो थे सर पर कभी वो अचानक उठ गए यूँ लगता जैसे किसी नई दौड़ का हिस्सा हूँ किरदार कुछ नए कुछ जाने पहचाने रह गए शुरूवात वही पर अंत नहीं एक नया सा क़िस्सा हूँ जोश भी है जुंबिश भी जाने क्यूँ मगर पैर थम गए एहसास एक भारी बोझ का है सर और काँधे पे भी पास दिखाई देते थे जो…

  • Hindi Poetry | कविताएँ

    किसे पता था

    किसे पता था के एक दिन ये चेहरा मुझ से यूँ जुड़ जायेगा अपरिचित अनजान वो मेरी पहचान बन जायेगा किसे पता था ये मौक़ा भी आयेगा परिचय कोई कारवायेगा पहचाने उस चेहरे को एक नाम वो दिलायेगा किसे पता था जान पहचान एक दिन दोस्ती भी बन जायेगी पटरियाँ साथ साथ चलते इतनी दूर आ जायेंगी किसे पता था रेल के उन डिब्बों में बैठ आते जाते बतियाते दिलों की डोर यूँ बंध जायेगी किसे पता था सात क़दम चल सात वचन ले कर हमसफ़र जीवन के हम दोनों बन जायेंगे किसे पता था

  • Hindi Poetry | कविताएँ

    भारत गणतंत्र

    मेरे देश का परचम आज लहरा तो रहा है लेकिन इर्द गिर्द घना कोहरा सा छा रहा है देश की हवाएं कुछ बदली सी हैं कभी गर्म कभी सर्द तो कभी सहमी सी हैं यूँ तो विश्व व्यवस्था में छोटी पर मेरा भारत जगमगा रहा है पर कहीं न कहीं सबका साथ सबका विकास के पथ पर डगमगा रहा है स्वेछा से खान पान और मनोरंजन का अधिकार कहीं ग़ुम हो गया है अब तो बच्चों का पाठशाला आना जाना भी खतरों से भरा है सहनशीलता मात्र एक विचार और चर्चा का विषय बन चला है गल्ली नुक्कड़ पर आज राष्ट्रवाद एक झंडे के नाम पर बिक रहा है क्या…

  • Hindi Poetry | कविताएँ

    ये जो देश है मेरा…

    कोई अच्छी खबर सुने तो मानो मुद्दत गुज़र गयी है लगता है सुर्खियां सुनाने वालों की तबियत कुछ बदल गयी है वहशियों और बुद्धीजीवियों में आजकल कुछ फरक दिखाई नहीं देता कोई इज़्ज़त लूट रहा है तो कोई इज़्ज़त लौटा रहा है बेवकूफियों को अनदेखा करने का रिवाज़ नामालूम कहाँ चला गया आलम ये है के समझदारों के घरों में बेवकूफों के नाम के क़सीदे पढ़े जा रहे हैं तालाब को गन्दा करने वाले लोग चंद ही हुआ करते हैं भले-बुरे, ज़रूरी और फज़ूल की समझ रखनेवाले को ही अकल्मन्द कहा करते हैं मौके के तवे पर खूब रोटियां सेंकी जा रहीं हैं कल के मशहूरों के अचानक उसूल जाग…