• English Poetry

    The Beggar

    I’ve seen many a time, a beggar. He sits under the old oak you know, Just down the street. He sits there with his hands spread Crying out just, just a rupee for today’s bread. He is pitiable. I wonder why he took to begging. He is not disabled, that much I know And his handicap, it never does show. Was it joblessness? I asked. But to this he just smiled. My attempts to know him were futile, And he’s been there all this while. I’ve known him for ten years now And till today I wonder, why? But my questions get lost in his smile.

  • Hindi Poetry | कविताएँ

    फ़िलहाल

    कुछ दिनों से ऐसा लग रहा है के ज़िंदगी के माइने बदल गए इतना बदला हुआ मेरा अक्स है लगता है जैसे आइने बदल गए अभी तो कारवाँ साथ था ज़िंदगी का जाने किस मोड़ रास्ते जुदा हो गए अब तो साथ है सिर्फ़ अपने साये का जो थे सर पर कभी वो अचानक उठ गए यूँ लगता जैसे किसी नई दौड़ का हिस्सा हूँ किरदार कुछ नए कुछ जाने पहचाने रह गए शुरूवात वही पर अंत नहीं एक नया सा क़िस्सा हूँ जोश भी है जुंबिश भी जाने क्यूँ मगर पैर थम गए एहसास एक भारी बोझ का है सर और काँधे पे भी पास दिखाई देते थे जो…